चीन की आखिरी मस्जिद पर भी चला जिनपिंग का बुलडोजर, विरोध पर उतरे मुस्लिमों पर जमकर बरसी लाठी, भारत में ऐसी कार्रवाई होती तो मच जाता बवाल..

- Advertisement -

नई दिल्ली/स्वराज टुडे: चीन से दुनियाभर के मुस्लिमों के लिए एक बड़ी खबर सामने आई है। जिनपिंग से आदेश मिलने के बाद आखिरी मस्जिद भी तोड़ दी गई है। सादियान की ग्रैंड मस्जिद चीन की सबसे बड़ी मस्जिदों में से एक है। लेकिन इस मस्जिद के तीन गुबंद पर हथौड़ा चला दिया गया।

अब तक 16 हजार से अधिक मस्जिदों किया जा चुका है जमींदोज

चीन ने सिर्फ एक प्रांत शिनजियांग में ही 16 हजार से अधिक मस्जिदों पर बुलडोजर चला दिया, लेकिन भारतीय मुसलमानों के नाम पर दुष्प्रचार करने वाले कुछ मुस्लिम देश इसकी निंदा तो दूर चीन पर एक बयान नहीं दे पाए। इस कार्रवाई को लेकर मानो सबको सांप सूख गया है। चीन का सदाबहार दोस्त पाकिस्तान भी सबकुछ देखकर भी गूंगा बन गया।

असम में जिनपिंग सरकार मुसलमानों के धार्मिक स्थलों को चाइनिज स्टाइल में बनवा रही है। इसलिए मस्जिदों को तोड़ा जा रहा है। गुबंद और मीनारों को ध्वस्त कर दिया गया है। यहां तक की मस्जिदों में दिखने वाले हरे रंग पर भी पाबंदी लगा दी गई है। पुरानी मस्जिद अरबी शैली में बनी थी जबकि नई मस्जिद में अरबी शैली की वास्तुकला खत्म कर दी गई है।

चीन की कार्रवाई से मुस्लिम राष्ट्रों की भी निकल गयी हवा

दरअसल, चीन ने अपने देश में इस्लाम को भी बदल दिया है और इससे जुड़ी एक-एक चीज को भी बदल दिया है। चीन का मुसलमानों पर ऐसा हमला 57 मुस्लिम देशों के माथे पर भी जिसे देखकर पसीना आ गया है। चीन ने लगातार अपने फैसलों से कुरान, मस्जिद, इल्लामिक नाम, ढाढ़ी, बुर्का का चीनीकरण कर दिया है। यानी इन सभी को अपने स्टाइल में बदल दिया है। इसी कड़ी में इस्लामिक स्ट्राइल में बनी देश की मस्जिद को भी हटा दिया है। इसे ग्रैंड मौस्क ऑफ सेडियन कहा जाता है। हैरानी की बात देखिए कि चीन के इस कदम के बाद एक भी मुस्लिम देश में पत्ता तक नहीं हिला। करोड़ों मुस्लिम मानों आंख बंद करके बैठ गए हो।

अगर ऐसी कार्रवाई भारत में होती तो ….!

यही काम अगर भारत में हुआ होता तो भयंकर बवाल मच जाता। मुस्लिम संगठन ओआईसी, एनजीओ, ह्यूमन राइट्स वाले और सोशल मीडिया इंफ्लूएंसर टूट पड़ते और एजेंडा चलाने में लग जाते। लेकिन चीन का नाम आते ही मानो ये सभी छुट्टी पर चले गए हैं। आपको बता दें कि चीन ने अपने देश में 29 मुस्लिम नामों पर बैन तक लगाया हुआ है। चीन में कोई भी अपने नाम में इमाम, सद्दाम, हज, मदीना जैसे शब्द नहीं लगा सकता है।

मुसलमान भारत मे ही सबसे ज्यादा सुखी

भारत में मुस्लिम समुदाय इस बात को स्वीकार करें या ना करें पर यह सत्य है कि मुसलमानों को जितनी आजादी भारत में मिली हुई है उतनी 57 मुस्लिम देशों में भी नहीं हैं । भारत में ही रहकर भारत विरोधी नारे लाने का अधिकार भी पूरी दुनिया में कहीं और देखने व सुनने को नहीं मिलेगी।

भारत का संविधान एक धर्मनिरपेक्ष, सहिष्णु और उदार समाज की गारंटी देता है। संविधान में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को व्यक्ति के मौलिक अधिकारों का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा माना गया है। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता मनुष्य का एक सार्वभौमिक और प्राकृतिक अधिकार है और लोकतंत्र, सहिष्णुता में विश्वास रखने वालों का कहना है कि कोई भी राज्य और धर्म इस अधिकार को छीन नहीं सकता।

यह भी पढ़े: ठंडी बियर पीते ही दो कॉन्स्टेबल की बिगड़ी तबियत, खून की उल्टियां होने के बाद दोनों की मौत, विभाग में मचा हड़कंप

यह भी पढ़े: 4 जून लोकसभा चुनाव परिणाम को लेकर क्या कहते हैं देश के जानेमाने ज्योतिषाचार्य !

यह भी पढ़े: फिल्मी स्टाइल में बाइक से सूरत से छत्तीसगढ़ पहुंचा आशिक, प्रेमिका को लेकर भागते समय सड़क हादसे का हुआ शिकार, पढ़िए हैरान कर देने वाली लव स्टोरी

दीपक साहू

संपादक

- Advertisement -

Must Read

- Advertisement -
506FansLike
50FollowersFollow
826SubscribersSubscribe

कोरबा लोकसभा से दूसरी बार निर्वाचित सांसद ने ली पद व...

नई दिल्ली/स्वराज टुडे: छत्तीसगढ़ राज्य के कोरबा लोकसभा क्षेत्र क्रमांक 04 से दूसरी बार निर्वाचित हुईं सांसद ज्योत्सना चरणदास महंत ने 22 जून को...

Related News

- Advertisement -