खनन माफिया ने ट्रैक्टर रोक रहे सिपाही को कुचला, इलाज के दौरान हुई मौत

- Advertisement -

उत्तरप्रदेश
फर्रुखाबाद/स्वराज टुडे: अवैध खनन कर मिट्टी भरकर जा रहे ट्रैक्टर को रोकने पर सिपाही की जान लेने के मामले में उपनिरीक्षक ने तीन लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है। तहरीर के अनुसार सिपाही को ट्रैक्टर रोकते देख चालक ने सिपाही को गाली देकर ललकारा था कि हट जा सामने से नहीं तो कुचल दूंगा। यह कहकर चालक ने सिपाही पर ट्रैक्टर चढ़ा दिया।

नवाबगंज थाने के उपनिरीक्षक संतोष कुमार ने बताया कि शनिवार रात वह सरकारी जीप के चालक शैलेंद्र सिंह व कांस्टेबल रोहित कुमार, होमगार्ड विजय सिंह के साथ गश्त पर थे। रात लगभग 2:30 बजे गांव नगला चंदन के निकट मिट्टी के अवैध खनन की सूचना मिली।

पुलिस बल नगला चंदन के निकट पहुंचा। इसी दौरान पुलिस ने मिट्टी ट्राली में भरे ट्रैक्टर व उसके पीछे बाइक से एक युवक को आता देखा। सिपाही रोहित ने ट्रैक्टर को रोकने का इशारा किया तो ट्राली के पीछे बाइक पर चल रहे युवक ने गाली देकर ट्रैक्टर के चालक से पुलिस को कुचलने के निर्देश दिए। इस पर चालक ने सिपाही को गाली देकर ललकारा कि सामने से हट जा नहीं तो कुचल दूंगा।

रोहित कुछ समझ पाता तब तक ट्रैक्टर चालक उसे कट मार दिया। ट्रैक्टर की टक्कर लगने से रोहित घायल हो गया। हमराही सिपाहियों ने टार्च की रोशनी में देखा और पहचान कर बताया कि ट्रैक्टर चालक का नाम प्रदीप यादव निवासी ग्राम चंदन नगला थाना नवाबगंज और बाइक सवार का नाम भूपेंद्र यादव निवासी ग्राम नगला लाहौरी मेरापुर है। वहीं बुलडोजर चालक सुमित भी भाग निकला।

पुलिस कर्मी घायल सिपाही रोहित को नगर के डा. शिवराम सिंह आर्य के यहां लाए। इसके बाद घायल सिपाही को लेकर लोहिया अस्पताल ले जाया गया। सिपाही की हालत गंभीर होने पर उसे सिटी अस्पताल भर्ती कराया। यहां रविवार सुबह सिपाही रोहित की मौत हो गई।

आधे घंटे आइसीयू में रखा रहा सिपाही का शव

बड़े भाई सचिन ने अस्पताल से शव नहीं उठने दिया। उन्होंने कहा कि आरोपितों की गिरफ्तारी के बाद ही शव उठने दिया जाएगा। अधिकारियों के समझाने पर जब वह तैयार हुए तब नर्सिंगहोम कर्मचारियों ने यह कह कर मना कर दिया कि रुपये जमा होने के बाद ही शव दिया जाएगा। एएसपी के हस्तक्षेप के बाद शव नर्सिंगहोम से पोस्टमार्टम हाउस में रखवाया गया।

सिपाही के घायल होने पर चौकी पर चलता रहा समझौते का प्रयास

सिपाही के घायल होने की जानकारी पर रात ही खनन माफिया ने बबना चौकी पहुंचकर पुलिस से मामले को निपटाने के लिए बातचीत शुरू की। माफिया द्वारा मामले में समझौता करने का प्रयास चल ही रहा था कि सुबह सिपाही की मौत की सूचना पुलिस को मिली। जानकारी होते ही खनन माफिया भी बात को बीच मे ही छोड़कर चौकी से निकल गए।

यह भी पढ़ें: तीर्थ यात्रियों से भरी बस पर आतंकियों ने की अंधाधुंध फायरिंग, तीन महिलाओं समेत 10 की मौत 32 घायल

यह भी पढ़ें: दरोगा के बेटे की बेरहमी से हत्या, दोस्तों ने ही दिया वारदात को अंजाम, मुख्य आरोपी निकला लालू प्रसाद यादव का रिश्तेदार

यह भी पढ़ें: बहुत कम लागत में शुरू करें इसकी खेती, सालों साल तक होगी अंधाधुंध कमाई

दीपक साहू

संपादक

- Advertisement -

Must Read

- Advertisement -
506FansLike
50FollowersFollow
820SubscribersSubscribe

याचिकाकर्ता दो बिजली कर्मचारियों को हाई कोर्ट से मिली बड़ी राहत

छत्तीसगढ़ बिलासपुर/स्वराज टुडे:  बिजली कंपनी से सेवानिवृत हुए दो कर्मचारियों की याचिका पर सुनवाई करते हुए हाई कोर्ट ने एक महीने के भीतर दोनों याचिकाकर्ताओं...

Related News

- Advertisement -