सर प्लस बिजली वाले छत्तीसगढ़ में बिजली कटौती से जनता हलाकान, जनप्रतिनिधि भी सो रहे कुंभकर्णी नींद

- Advertisement -

*भाजपा के शासन में हमेशा बिजली की समस्या रही हैं सर पल्स वाला प्रदेश बिजली की समस्या से जूझ रहा है?*

*गर्मी आई नही बिजली की समस्या बढ़ जाती हैं आमजनता परेशान सुनने वाला कोई नहीं ?*

*बिलासपुर शहरी क्षेत्र में दिन में कई मर्तबा लाइट बंद जो कई बार तो घंटो गोल रहते हैं।*

बिलासपुर/स्वराज टुडे:  गर्मी आई नही कि सर प्लस बिजली वाला प्रदेश बिजली गोल की समस्या से जूझने लगता हैं। पूरे प्रदेश में इस समय गर्मी बढ़ गई हैं जिसके साथ बिजली गुल की समस्या भी चरम पर हैं दिन में कम से कम 5 से 10 बार बिलासपुर के शहरी क्षेत्रों में बिजली गुल हो रही हैं । ग्रामीण क्षेत्रों का तो कोई माई बाप ही नही है।

न्यायधानी में बिजली की समस्या से आमजनता जूझ रही है। बच्चे,बुजुर्गो का हाल बेहाल हैं। इतनी बार बिजली गोल हो रही है जो सीधे सीधे कटौती दिखाई दे रही हैं। आखिर ये कटौती क्यों ? हमारे ही प्रदेश में बिजली उत्पन्न हो रही है और हमसे ही दूसरे प्रदेशों को बिजली दी जा रही है । छत्तीसगढ़ बिजली के मामले में सर प्लस वाला प्रदेश हैं । उसके बावजूद कटौती शासन प्रशासन क्यों नही दिखाई दे रही हैं या जानबूझ कर ऐसा किया जा रहा है ।

भाजपा के शासन में हमेशा सर प्लस बिजली वाला प्रदेश जूझते रहा है?

भाजपा जब जब सत्ता में आई हैं तब तब सर प्लस बिजली वाले प्रदेश में बिजली की समस्या शुरू हो जाती है। डॉ रमन सिंह के मुख्यमंत्री रहते भी यही समस्या बनी हुई थी। शहरी क्षेत्रों में उस समय भी बिजली बहुत कटौती होती रही है ग्रामीण क्षेत्रों की बात ही मत पूछो ।

अब फिर से भाजपा की सरकार आ गई है और मुख्यमंत्री विष्णु देव साय है। ये विभाग भी शायद वो अपने पास रखे हुए हैं। बावजूद इसके पूरा प्रदेश बिजली समस्या से जूझ रहा है । खास कर बिलासपुर में तो ये समस्या बहुत विकराल रूप लिए हुए हैं । दिन में 5 से 10 बार बिजली गुल होना आम बात सी हो गई हैं ।

मेंटनेस के नाम पर बिजली बंद का बहाना : –

बिजली बंद की समस्या को लेकर अधिकारी के पास रटा रटाया एक ही जवाब होता है कि मेंटनेस चल रहा है । ऐसा कौन सा मेंटेन्स चलता है कि दिन में दस दस बार बिजली बंद करना पड़ता हैं । अभी तक तो सुना था कि बरसात के पहले बिजली मेट्नेस किया जाता रहा है लेकिन अब 12 माह मेंटनेस चलता रहता है। फिर भी समस्या जस की तस बनी रहती है लेकिन सरकारी बहाना हैं आप चाह के भी कुछ नहीं कर सकते ।

जनप्रतिनिधि के कान में जूं तक नहीं रेंगती:-

शहर में प्रतिदिन बिजली कई मर्तबा गोल हो रही है जिसके चलते इस भारी गर्मी में आम जनता हलाकान हो रही हैं लेकिन शहर के जनप्रतिंधियो को जैसे इससे कोई मतलब ही नहीं क्योंकि उनके घर ऑफिस में बड़े बड़े जनरेटर लगे हुए हैं।  उनको इससे फर्क नहीं पड़ता कि आमजनता का इस भारी गर्मी में क्या हाल होता होगा । लेकिन जैसे ही चुनाव आता है तो इनके सुर बदल जाते हैं। आपकी समस्या उन्हे अपनी समस्या लगने लगती हैं और चुनाव खत्म होते ही वे फिर बेगाने हो जाते हैं ।

दीपक साहू

संपादक

- Advertisement -

Must Read

- Advertisement -
506FansLike
50FollowersFollow
826SubscribersSubscribe

कोरबा लोकसभा से दूसरी बार निर्वाचित सांसद ने ली पद व...

नई दिल्ली/स्वराज टुडे: छत्तीसगढ़ राज्य के कोरबा लोकसभा क्षेत्र क्रमांक 04 से दूसरी बार निर्वाचित हुईं सांसद ज्योत्सना चरणदास महंत ने 22 जून को...

Related News

- Advertisement -