सच्ची कहानी पर आधारित है निर्देशक अविनाश ध्यानी की फिल्म “फूली”… फ़िल्म का पोस्टर आउट

- Advertisement -

मुंबई/स्वराज टुडे: अभिनेता और निर्देशक अविनाश ध्यानी की फ़िल्म फूली का पोस्टर और रिलीज़ डेट जारी कर दिया गया है। अभिनेता और निर्देशक अविनाश ध्यानी की आने वाली फिल्म “फूली” किसी एक बच्ची की कहानी मात्र नहीं है। फिल्म में फूली के किरदार में अविनाश ध्यानी ने पहाड़ में रहने वाली हर महिला की जिंदगी को दर्शाया है। इस फिल्म के दौरान वो करीब 8 महीनों तक तिमली गांव,( पौड़ी जिला) में रहे, और बिना किसी जल्दबाजी के इस फिल्म को बनाते रहे।

अविनाश से की गयी बातचीत में उन्होंने बताया कि उनकी बनाई सारी फिल्मों से फूली फिल्म उनके सबसे करीब है क्योंकि फूली यथार्थ के बहुत नजदीक है। फूली फिल्म में उन्होंने पहाड़ की कई महिलाओं के जीवन से प्रेरणा ली है, जिसमें कि उनकी माँ भी शामिल हैं। पहाड़ को करीब से जानने और समझने के चलते उन्हें लगा कि ये एक ऐसी कहानी है जो सिर्फ पहाड़ों तक सीमित रहने के लिए नहीं है, इसे देशभर में लोगों तक पहुँचना चाहिए।

फिल्म की कहानी फूली के किरदार के आस पास घूमती है जो की एक 14 साल की होनहार बच्ची है, जो पढ़ना चाहती है, लिखना चाहती है, आगे बढ़ना चाहती है, मगर हालत और परिस्थितियाँ उसके विपरीत हैं। उसके पिता अपनी शराब की लत के आगे लाचार हैं। फूली अपने पिता कि हर बात मानने के साथ हर वो कोशिश करती है जिससे की वो किसी तरह अपनी पढ़ाई पूरी करे। जब उसका मनोबल कम होता है तो तभी उसकी जिंदगी में एक जादूगर आता है जो उसे समझाता है कि कैसे उसकी जिंदगी बदलना उसके अपने हाथों में है और बताता है कि “कोई नहीं आता आपकी जिंदगी में जादू करने, वो जादू आपको ख़ुद करना होता है।” कैसे फूली जादूगर की कही बातों को समझती है और अपने जीवन में उतारती है, इसी पर पूरी फिल्म आधारित है।

फूली, ऐसा सिनेमा है जो कई सालों में एक बार बनता है जहाँ आप जब उसे देखते हैं तो आप अपना समय देकर कुछ सीख कर जाते हैं। फूली भले ही एक बच्ची की कहानी है पर वो जीवन के कई ऐसे पड़ावों पर प्रकाश डालती है जिनसे हर इंसान, कभी न कभी, किसी ना किसी उम्र में गुजरता है। फिल्म 7 जून को रिलीज़ हो रही है।

 

दीपक साहू

संपादक

- Advertisement -

Must Read

- Advertisement -
506FansLike
50FollowersFollow
823SubscribersSubscribe

52 साल के रिक्शा वाले की 3000 गर्लफ्रेंड्स, पढ़िए हैरान कर...

उत्तरप्रदेश बरेली/स्वराज टुडे: सोशल मीडिया के दौर में इंसान ऑनलाइन जितना सोशल होता जा रहा है, उतना ही झूठा भी. वो अपनी असल जिंदगी को...

Related News

- Advertisement -