शादी के बाद 4 लाख रुपए की डिमांड, नहीं देने पर न्यायालय में पति ने तलाक के लिए लगाया आवेदन, पत्नी ने पुलिस से लगाई मदद की गुहार

- Advertisement -

छत्तीसगढ़
कोरबा /स्वराज टुडे:बालको थाना क्षेत्र में दहेज प्रताड़ना का मामला भादरापारा निवासी शालिनी पाण्डेय पिता स्व . मणीशंकर पाण्डेय ने बताया कि जन्म से अपने बुआ एवं फूफा बसंत तिवारी के घर में उनकी बेटी के रूप में पली बढी ।  एम.एससी और बी . एड . की पढ़ाई पूरी की।  फूफा जी बालको प्लाट के रिटायर्ड कर्मचारी है।  दिनांक 28/11/2021 को मेरे विवाह सिचाई कालोनी आईटीआई रामपुर निवासी अजय पाण्डेय के पुत्र समीर पाण्डेय के साथ हिन्दु एवं समाजिक रीति रिवाज के साथ सम्पन्न हुआ था ।

शालिनी ने बताया कि मेरे फूफा जी एवं उनके लड़कों के द्वारा अपनी सामर्थ्य के अनुसार सगाई ससुराल वालों के अनुरूप एवं शादी भी धूम धाम से बालको  में किये थे । सगाई के दिन इलेक्ट्रानिक्स समान एवं मोटर बाईक के एवज में दो लाख रूपये नगद ससुर अजय पाण्डेय को दिये थे । इसके अलावा सोने की अंगूठी तथा सास एवं ननद को चांदी का पायल एवं  सोने का जेवर लगभग 16 तोला एवं 70 तोला का चांदी का जेवर , पायल , करधन , गणेश मूर्ति और भी शादी के लगभग सभी सामान दहेज के रूप में दिये !

बाद में पति समीर पाण्डेय , सास किरन पाण्डेय , ननद समीक्षा पाण्डेय एवं ससुर अजय पाण्डेय के साथ H – 24 सिंचाई कालोनी में रहने लगी। ससुराल में पहले दिन ही मेरी सास , ननद एवं ससुर मुझे बोले कि हमारे घरेलू मेहमानों का स्वागत तुम्हारे मायके में ठीक से नहीं होने का हवाला दिए और कहा जिसके कारण मेहमान नाराज है । उनके स्वागत का कुछ करवाओं तभी तुम्हें यहां रहने देंगे । जब  ये बात मैंने फूफा जी को बतायी तब मेरे फूफा 15 नग चादी का छोटा वाला फोटो फ्रेम मेरे ससुराल में लेकर गये।

शादी के पहले दिन पति समीर पाण्डेय के द्वारा मेहमानों का ठीक से स्वागत नहीं हुआ जिससे मेरी बेइज्जती हो गयी  कहकर  ताना मारते दुर्व्यवहार करते तथा ससुर अजय भी हमेशा मुझे ज्यादा पढे लिखे होने का ताना मारकर प्रताड़ित करते थे । शादी के बाद मायका बालको आना जाना करके कुल 28-30 दिन ही मुझे ससुराल में नौकरानी की तरह रखे । ये 10 जनवरी 2022 को मेरे पति 04 लाख रुपये की आवश्यकता होना बताकर मुझे पैसे लाने के लिए बोले नही देने पर मुझे घर से निकालने लगे तब मैं अपने भाई को बुलाई।

जैसे हालत में थी वैसे ही अपना सारा जेवर अलमारी में चाबी सहित छोड़कर अपने मायके आ गयी । उसके बाद से अब तक मैं मायके में ही रह रही हूं। इस दौरान मेरे फूफा एवं भाईयों ने ससुर जी एवं पति से संपर्क किया तो वे बोले 04 लाख रूपये दोगे तभी बात बनेगी। रकम नहीं दे पाने की स्थिति में  समीर पाण्डेय के द्वारा कुटुम्ब न्यायालय कोरबा में मुझसे तलाक के लिए आवेदन लगाया गया है जिसके कारण मैं मानसिक रूप से परेशान होकर न्याय की आस लिए बालको थाने मे FIR दर्ज कराई हूँ। फिलहाल पुलिस ने इस मामले में कोई कार्यवाही नहीं की है ।

दीपक साहू

संपादक

- Advertisement -

Must Read

- Advertisement -
506FansLike
50FollowersFollow
820SubscribersSubscribe

याचिकाकर्ता दो बिजली कर्मचारियों को हाई कोर्ट से मिली बड़ी राहत

छत्तीसगढ़ बिलासपुर/स्वराज टुडे:  बिजली कंपनी से सेवानिवृत हुए दो कर्मचारियों की याचिका पर सुनवाई करते हुए हाई कोर्ट ने एक महीने के भीतर दोनों याचिकाकर्ताओं...

Related News

- Advertisement -