परिवार को बंधक बनाकर दो सगी बहनों से गैंगरेप व हत्या मामले में चार को फांसी, पढ़िए पूरी खबर

- Advertisement -

बिहार
सुपौल/स्वराज टुडे: बिहार के सुपौल जिले में गैंगरेप और हत्या के मामले में चार दोषियों को बुधवार को फांसी की सजा सुनाई गई है।  एडीजे 6 पोक्सो न्यायाधीश पाठक आलोक कौशिक ने यह फैसला सुनाया है। साथ ही पीड़िता के परिवार को 18.50 लाख रुपये देने का निर्देश दिया है। कोर्ट के फैसले को पीड़ित परिवार ने न्याय की जीत बताया है। तीन साल पहले 8 अक्टूबर 2019 को दरिंदों ने गैंगरेप और हत्या की घटना को अंजाम दिया गया था।

न्यायालय का फैसला जानने कोर्ट परिसर में जुटी लोगों की भीड़

एडीजे 6 सह विशेष न्यायाधीश पॉक्सो पाठक आलोक कौशिक की अदालत ने बुधवार को सामूहिक दुष्कर्म के मामले में तीन और हत्या के मामले में एक आरोपी को फांसी की सजा सुनाई है। इस दौरान अदालत में लोगों की भीड़ देखी गई। कोर्ट परिसर में बाहर खड़े लोग भी इस मामले में दोषी को क्या सजा मिली यह जानने को बेताब थे। फांसी की सजा के बाद वहां मौजूद सभी लोग खुश हो गए और इसे न्याय की जीत करार दिया।

मृतक के परिजन को मिलेगा मुआवजा

मृतका के परिजन को 18 लाख 50 हजार रुपये की राशि दी जाएगी. यह राशि मृतका के मां-बाप और पति को दी जाएगी. इसके अलावे पीड़ित नाबालिग लड़की को साढ़े आठ लाख रुपये दिए जाएंगे.

घटना के दिन दशहरा का मेला घूमने गया था परिवार

बता दें कि 8 अक्टूबर 2019 को प्रतापपुर का एक परिवार अपने सभी सदस्यों के साथ दशहरा का मेला घूमने गया था। घर लौटने के दौरान बीच रास्ते में ही चार बदमाशों ने हथियार का भय दिखाकर सभी को बंधक बना लिया और उनकी पत्नी के साथ गैंगरेप किया। इस दौरान दरिंदों ने एक नाबालिग के साथ भी दुष्कर्म किया। इसका विरोध करने पर अपराधियों ने नाबालिग की विवाहित बड़ी बहन (रेप पीड़िता) को गोली मार दी। इस घटना में वह गंभीर रूप से घायल हो गई, जिसका इलाज के दौरान मौत हो गयी।

स्केच के आधार पर हुई थी गिरफ्तारी

गौरतलब है कि इस मामले की शुरुआती जांच में पुलिस के हाथ खाली थे। इसके बाद पुलिस ने पीड़िता की मदद से अपराधियों के स्केच बनवाए, जिसे जिले के तमाम वाट्सएप ग्रुप में शेयर किया गया. इसके बाद मिले सुराग के आधार पर चारों आरोपियों मो अलीशेर, मो जमाल, मो अयुब और अनमोल यादव को गिरफ्तार किया गया था।

पीड़ित परिवार ने कहा न्याय की जीत

इस जघन्य वारदात के आरोपियों की सजा का फैसला आने में भले ही 3 साल का वक़्त लग गया लेकिन पीड़ित परिवार के लिए राहत भरी खबर लेकर आया । उन्होंने विशेष पॉस्को न्यायाधीश का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि न्याय की जीत हुई है ।

बहरहाल चारों दोषियों को फांसी की सजा तो सुना दी गई है लेकिन वे अपने अंजाम तक कब पहुंचते हैं यह देखने वाली बात होगी ।

दीपक साहू

संपादक

- Advertisement -

Must Read

- Advertisement -
506FansLike
50FollowersFollow
866SubscribersSubscribe

कांग्रेस सदैव ही जनता के हितों की रक्षा के लिए है...

छत्तीसगढ़ दुर्ग/स्वराज टुडे: प्रदेश कांग्रेस कमेटी के निर्देशानुसार जिला कांग्रेस कमेटी के संबंध में पूर्वी ब्लॉक कांग्रेस कमेटी दुर्ग शहर द्वारा आगामी 24 जुलाई को...

Related News

- Advertisement -