ज्ञानवापी मस्जिद के दूसरे दिन का सर्वे पूरा, जानिए कहां-कहां हुई वीडियोग्राफी और मंदिर के कौन से मिले अवशेष, आज भी किया जाएगा सर्वे

- Advertisement -

उत्तर प्रदेश
ज्ञानवापी/स्वराज टुडे: ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में एडवोकेट कमिश्नर की कार्यवाही लगातार दूसरे दिन रविवार को भी हुई। इस दौरान मस्जिद व गुंबद के बाद तहखाने के भी कुछ हिस्सों की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी की गई। इसमें मस्जिद के गुंबदों की संरचना असमान्य पाई गई। ऐसा लगता है जैसे इन्हें अतिरिक्त बनाया गया है। इन गुंबदों की बनावट जैसी बाहर से दिखती है, भीतर से काफी अलग है।

अतिरिक्त निर्माण कराए जाने के मिले प्रमाण

चर्चाओं के अनुसार गुंबद ऐसे दिखते हैं, जैसे उसके दो हिस्से हों। नीचे के हिस्से पर ऊपर का हिस्सा अतिरिक्त बनाया गया है। तीन गुबंदों में से बीच के गुंबद में यह बनावट कुछ ज्यादा ही स्पष्ट है। गुंबद की छत तक पहुंचने के लिए बनाई गईं सीढ़ियां भी बेतरतीब हैं। ऐसा प्रतीत होता है, जैसे उन्हें अलग से बनाया गया है।

तहखाने भारी मात्रा में मलबा और चारों तरफ ईंट की दीवार से बंद एक कमरा मिला है। कमरे को खोला नहीं जा सका है। नंदी के सामने तहखाने के एक भाग में जमा मलबे को हटाने पर उसमें कलश मिला। एडवोकेट कमिश्नर के साथ मंदिर और मस्जिद पक्ष के वकील कुछ अन्य हिस्सों का निरीक्षण भी कराना चाहते हैं। इसलिए सर्वे आज सोमवार को भी जारी रहेगा।

तहखाने का रहस्य बरकरार

तहखाने के कुछ हिस्से में मलबा मिला। सफाईकर्मियों ने कुछ मलबे को हटाया जरूर लेकिन अभी काफी बाकी है। इसी तहखाने में एक हिस्से में लकड़ियों के बड़े-बड़े बोटे रखे हैं तो चारों तरफ से बंद ईंट की दीवारों का एक कमरा भी है। इसमें क्या है, किसी को नहीं पता। इन दीवारों के बीच में एक दरवाजा भी है, जिसे खोलना संभव नहीं हो पाया। इसकी बनावट ऐसी लगती है जैसे एक खाली हिस्से को दीवारों से बंद किया गया है।

मलबे में ज्योति कलश मिलने से हैरान रह गए जांचकर्ता

यह गुंबद के नीचे है। नंदी के सामने तहखाने के एक भाग में जमा मलबे को हटाने पर उसमें ज्योति कलश मिला। कई जगहों पर कलाकृतियों के मिलने की बात भी कही जा रही है। मंदिर और मस्जिद पक्ष के वकीलों ने इस पर कुछ कहने से मना कर दिया है। उनका कहना है कि न्यायालय में रिपोर्ट दाखिल होने के बाद स्पष्ट होगा।

रविवार को मस्जिद के गुम्बद से हुई निरीक्षण की शुरुआत

निरीक्षण के दूसरे दिन यानी रविवार को सबसे पहले गुंबद का निरीक्षण शुरू हुआ। पहले दोनों छोटे गुंबद, इसके बाद बीच के बड़े गुंबद के भीतरी हिस्से के कोने-कोने को कैमरों में कैद किया गया। फिर गुंबद की छत पर पहुंचकर बाहरी हिस्सों का निरीक्षण किया। इसके लिए कैमरामैन ने ड्रोन की मदद ली। यहां से सभी नीचे आ गए और जहां इबादत होती है। उसके कोने-कोने की फोटोग्राफी व वीडियोग्राफी हुई। इसके बाद सभी ने तहखाने का रुख किया।

तहखाने में मलबे का ढेर बना रहस्य

एक दिन पहले जिन चार कमरों तक टीम पहुंची थी, उसे छोड़कर दूसरे हिस्सों की जांच-परख शुरू हुई। यहां काफी बाधाएं थीं। कुछ भाग में मलबा भरा हुआ था तो एक में लकड़ियों का ढेर रखा था। नंदी के ठीक सामने मिट्टी का ढेर पड़ा है। दो दर्जन सफाइकर्मियों को बुलाकर मिट्टी हटाने का प्रयास किया गया। समय की बाध्यता और मिट्टी का बड़ा ढेर होने की वजह से पूरी सफाई नहीं हो सकी। जितनी हुई, उतने में जो मिला उसे ही कैमरे में कैद किया। तब तक 12 बज चुका था। एडवोकेट कमिश्नर की कार्यवाही को रोक दिया गया।


यह भी पढ़ें: पत्नी खेल रही थी ऑनलाइन लूडो, पति के मना करने के बावजूद खेलना नहीं किया बंद, फिर पति ने उठाया खौफनाक कदम


यह भी पढ़ें: गुना के आरोन में शिकारियों से हुई मुठभेड़ में तीन पुलिसकर्मियों की गोली मारकर हत्या, सरकार ने किया 1-1 करोड़ मुआवजा देने का ऐलान, कलेक्टर ने कहा- आरोपियों के अवैध निर्माण पर चलेगा बुलडोजर


 

दीपक साहू

संपादक

- Advertisement -

Must Read

- Advertisement -
504FansLike
50FollowersFollow
814SubscribersSubscribe

प्रेम प्रसंग का व‍िरोध करने पर नाबालिग बेटी ने खेला खूनी...

उत्तरप्रदेश कन्नौज/स्वराज टुडे: कन्नौज जिले की छिबरामऊ कोतवाली क्षेत्र के करमुल्लापुर गांव में दिल दहला देने वाली वारदात सामने आई। प्रेम-प्रसंग में बाधा बनने पर...

Related News

- Advertisement -