क्या कोवैक्सीन भी सुरक्षित नहीं? वैज्ञानिकों ने जताई चिंता, जानिए क्या है रिसर्च का सच

- Advertisement -

नई दिल्ली/स्वराज टुडे: कोविशील्ड के साइड इफेक्ट्स को लेकर देश-दुनिया में हंगामा मचा हुआ है. अब इसी बीच कोवैक्सिन को लेकर भी एक रिपोर्ट सामने आई है. रिपोर्ट में साफ कहा गया है कि कोवेक्सिन लेने वालों में साइड इफेक्ट भी देखे गए।

 

कोविशील्ड के बाद कोवैक्सिन के दुष्प्रभावों की रिपोर्ट करें

कोरोना महामारी से बचने के लिए लोगों ने कोविड वैक्सीन ली. कोरोना महामारी के दौरान कुछ लोगों ने कोवीशील्ड लगवाई. कुछ लोगों को कोवैक्सीन दी गई. अभी कुछ दिन पहले ही कोविशील्ड के साइड इफेक्ट की खबर से लोग डर गए थे. भारत बायोटेक की कंपनी कोवैक्सिन को लेकर भी एक चौंकाने वाली रिपोर्ट सामने आई है. यह पूरी रिसर्च रिपोर्ट बीएचयू (बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी) के शोधकर्ताओं द्वारा बनाई गई है। इस शोध की एक रिपोर्ट स्प्रिंगर लिंक जर्नल में प्रकाशित हुई है।

कोवेक्सिन बनाने वाली कंपनी भारत बायोटेक की प्रतिक्रिया

रिपोर्ट में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि कोवेक्सिन प्राप्त करने वाले लगभग एक तिहाई लोगों को दुष्प्रभाव का अनुभव हुआ। इस रिपोर्ट के सामने आते ही कोवैक्सिन बनाने वाली कंपनी भारत बायोटेक ने भी प्रतिक्रिया दी है. कंपनी के मुताबिक, कोवैक्सिन पर पहले ही कई अध्ययन और शोध हो चुके हैं जिससे साबित हुआ है कि यह पूरी तरह से सुरक्षित है। कोवैक्सिन का सुरक्षा ट्रैक रिकॉर्ड उत्कृष्ट है।

अनुसंधान क्या कहता है?

कोवेक्सिन पर किए गए शोध में एक हजार 24 लोगों को शामिल किया गया था. जिसमें 636 लोग 25 साल के और 291 युवा थे. इन सभी लोगों का टीका लेने के बाद एक साल तक फॉलोअप किया गया। जिनमें से 48 फीसदी यानी 304 युवाओं ने दावा किया कि वे श्वसन तंत्र में संक्रमण जैसी बीमारियों से पीड़ित हैं. टीकाकरण के बाद जहां 42.6 प्रतिशत यानी 124 युवाओं में तंत्रिका संबंधी समस्याएं विकसित हुईं, वहीं 5.8 प्रतिशत युवाओं में तंत्रिका, जोड़ों और हड्डियों में दर्द की समस्या विकसित हुई।

वैक्सीन लेने के बाद महिलाओं को पीरियड्स में दिक्कत आ रही है

रिपोर्ट्स के मुताबिक, कोवैक्सिन के महिलाओं में गंभीर साइड इफेक्ट देखने को मिले हैं। लगभग 4.6 प्रतिशत महिलाएं टीका लेने के बाद मासिक धर्म संबंधी समस्याओं से पीड़ित होती हैं। जबकि 2.7 प्रतिशत महिलाएं आंखों से जुड़ी समस्याओं से पीड़ित हैं। इतना ही नहीं, कुछ महिलाओं में थायरॉयड जैसी गंभीर बीमारी भी पाई गई।

कोवैक्सिन से पहले कोविशील्ड को लेकर हंगामा मचा हुआ था

कुछ समय पहले भारत में लोगों के बीच डर का माहौल बन गया था जब भारत में एस्ट्राजेनेका कंपनी की वैक्सीन कोविशील्ड के साइड इफेक्ट की खबरें सामने आईं। एस्ट्राजेनेका ने ब्रिटिश कोर्ट में माना कि कोविशील्ड के साइड इफेक्ट हो सकते हैं। इससे थ्रोम्बोसाइटोपेनिया सिंड्रोम (टीटीएस) की समस्या हो सकती है।

थ्रोम्बोसाइटोपेनिया सिंड्रोम (टीटीएस)

इस सिंड्रोम के कारण शरीर में खून के थक्के बनने लगते हैं। जिसके कारण हार्ट अटैक, स्ट्रोक, प्लेटलेट्स तेजी से कम होने लगते हैं। जैसे ही कंपनी ने ब्रिटिश अदालत में दुष्प्रभाव स्वीकार किया, भारत में लोग घबरा गए।

यह भी पढ़ें: यात्रीगण कृपया ध्यान दें! ट्रेन चलने के 10 मिनट में नहीं पहुंचे तो रद्द हो जाएगी आपकी आरक्षित सीट, जानिए भारतीय रेलवे का नियम

यह भी पढ़ें: परिजनों की मौत पर जश्न मनाते हैं यहां के लोग, शव को भी नचाते हैं अपने साथ, अजीबोगरीब है ये परंपरा

यह भी पढ़ें: ‘राहुल बाबा-ममता दीदी आपको डरना है तो डरिए, PoK भारत का है और हम उसे लेकर रहेंगे’: अमित शाह

दीपक साहू

संपादक

- Advertisement -

Must Read

- Advertisement -
506FansLike
50FollowersFollow
820SubscribersSubscribe

’30 लाख रुपये में बिका NEET पेपर…’, आ गया बड़ा कबूलनामा,...

नई दिल्ली/स्वराज टुडे: नीट पेपर लीक मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। आरोपियों ने पूछताछ के दौरान कबूल कर लिया है कि पेपर लीक...

Related News

- Advertisement -