एक एकल मां का सरपंच से सांसद तक का सफर,अब पीएम मोदी के मंत्रिमंडल में मिली खास जगह

- Advertisement -

मुम्बई/स्वराज टुडे: जीवन की कहानियों में वह अद्वितीय संघर्ष और साहस का संग्रह होता है, जो हमें अनजाने में भी प्रेरित करता है। वह कहानी, जो हमें उत्तेजित करती है, हमारे अंदर एक नई ऊर्जा का स्रोत बनती है और हमें संघर्षों के सामने उन्नति की ओर आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती है।

रक्षा खाड़से की कहानी भी ऐसी ही एक उदाहरण है, जो हमें उन विशेष मोमेंट्स का गहरा अनुभव कराती है, जब जीवन ने उन्हें विपरीत परिस्थितियों का सामना करने के लिए चुनौती दी। एक एकल मां के रूप में, रक्षा ने अपनी अनदेखी की निगाहों में जीवन के हर कठिनाई का सामना किया और राजनीतिक क्षेत्र में अपना मुकाम हासिल किया। वो एक सरपंच से महाराष्ट्र के मंत्री तक की ऊंचाइयों को छूने में सफल रही। रक्षा खाड़से की कहानी हमें यह सिखाती है कि जीवन की कोई भी चुनौती, जितनी भी बड़ी क्यों न हो, हमें हार नहीं मानने, बल्कि उसका सामना करने और उसे अपने लाभ में बदलने की प्रेरणा देती है।

रक्षा खाड़से का राजनीतिक सफर

2013 में, रक्षा खाड़से के पति निखिल खाड़से की आकस्मिक मौत हो गई थी। उस वक़्त उनके बेटे की उम्र ढाई साल और बेटी की चार साल थीं। अब वह एक एकल मां थीं जिनके ऊपर दो बच्चों की जिम्मेदारी थी, लेकिन तमाम कठिनाईयों को चुनौती देते हुए जीवन पथ पर ऐसे आगे बढ़ी कि सफलता उनके कदम चूमने लगी।

रक्षा खाड़से की राजनीतिक यात्रा एक सरपंच के रूप में शुरू हुई। इसका आरंभ इतना मजबूत था कि यह उसके वर्तमान सफलता का मार्ग प्रशस्त कर दिया। वह रावर निर्वाचन क्षेत्र की तीन बार की सांसद हैं जिन्हें महाराष्ट्र के मंत्री के रूप में शपथ ग्रहण की गई।

रक्षा की अद्वितीयता

रक्षा ने अपने गाँव कोठाड़ी के सरपंच के रूप में शुरू किया। फिर, वह जळगाव जिला परिषद के सदस्य बनीं। उनकी स्थानीय राजनीतिक सफलता लोगों को इतना प्रभावित किया कि वह 2014 में लोकसभा के लिए चुनाव लड़ीं जब वह मात्र 26 वर्षीय थीं। रक्षा की ताकत को ध्यान में रखते हुए, यह संघीय सांसद तीन बार चुनी गईं।

रक्षा ने कहा, “मंत्री के रूप में शपथ लेना मेरे लिए बड़ी बात है अगर मैं अपने सफर की स्थिति को देखती हूँ तो मेरा व्यक्तिगत जीवन दर्द से भरा था, लेकिन लोगों का समर्थन और प्यार मुझको इन दुखों को भूलने में मदद करता रहा।”

रक्षा का राजनीतिक सफर का अनूठापन यह था कि उनका काम करने का जूनून स्वार्थहीन और समर्पित था। वह इसलिए काम करती थी क्योंकि उसे अपना काम पसंद था, न कि उसे किसी विशेष पद को हासिल करना था।

मीडिया से बातचीत करते हुए, रक्षा ने कहा, “मैंने कभी भी किसी पद के लिए काम नहीं किया। आज मैं वाकई खुश हूं कि पीएम नरेंद्र मोदी ने मुझे मंत्री के पद से सम्मानित किया।”

ससुराल से समर्थन

रक्षा खाड़से की सफलता को उनके ससुराल, एकनाथ खाड़से का समर्थन भी था, जो कि शरद पवार फैक्शन के एनसीपी नेता हैं और अब भाजपा गठबंधन में शामिल होने की कगार पर हैं। रक्षा खाड़से ने कहा, “मेरे ससुर ने अपनी बेटियों को उम्मीदवार बनाने के बजाय, मुझे लोकसभा चुनाव लड़ने का मौका दिया और हमेशा मेरा समर्थन किया।”

जबकि एकनाथ खाड़से ने रक्षा की सफलता की सराहना की और उन्हें महाराष्ट्र के विकास के लिए एक असेट कहा। उन्होंने कहा, “मेरी बहु विकास के लिए एक संघ सदस्य बनने का सबसे खुशीयापूर्ण पल है। मुझे यकीन है कि रक्षा का योगदान हमारे क्षेत्र और महाराष्ट्र के विकास के लिए महत्वपूर्ण होगा। यह मेरे लिए बहुत ही भावनात्मक पल है।”

एक प्रेरणादायक महिला – रक्षा खाड़से

अपने दो बच्चों को अपने हाथों में लेकर, उनकी एकमात्र देखभाल और प्रदाता और क्षेत्र के उत्तरदायित्वपूर्ण राजनीतिज्ञ- रक्षा की तस्वीर वायरल हो गई। क्या यह आपको कुछ याद दिलाता है? बिल्कुल! एक एकल मां, एक रानी, एक लड़ाईबाज और एक विद्रोही जिसने अपने बच्चे को पीठ पर बाँधकर लड़ाई की मैदान में – रानी लक्ष्मीबाई। शायद तुलना बहुत दूर तक है। लेकिन, रक्षा की यात्रा कुछ कम नहीं है एक महिला जो एक पीढ़ी को प्रेरित कर सकती है।

यह भी पढ़ें: तो इसलिए शिवराज और मनोहर लाल को बनाया गया मंत्री, चौंका देगी मोदी की सोशल इंजीनियरिंग

यह भी पढ़ें: खनन माफिया ने ट्रैक्टर रोक रहे सिपाही को कुचला, इलाज के दौरान हुई मौत

यह भी पढ़ें: महिला अपराध क़ानून के सत्य तथ्य एवं बचाव- अधि. हिना यास्मीन खान

दीपक साहू

संपादक

- Advertisement -

Must Read

- Advertisement -
506FansLike
50FollowersFollow
820SubscribersSubscribe

’30 लाख रुपये में बिका NEET पेपर…’, आ गया बड़ा कबूलनामा,...

नई दिल्ली/स्वराज टुडे: नीट पेपर लीक मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। आरोपियों ने पूछताछ के दौरान कबूल कर लिया है कि पेपर लीक...

Related News

- Advertisement -