आयकर विभाग के निशाने पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के सिपहसालार, सीएम बघेल ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना

- Advertisement -

छत्तीसगढ़
रायपुर/स्वराज टुडे: प्रदेश में विगत तीन दिनों से सेंट्रल आयकर टीम की ताबड़तोड़ छापामार कार्रवाई आज चौथे दिन भी जारी है। इस बार, आयकर की इस चक्रव्यूह में सरकार बुरी कदर से निरीह नजर आ रही है…!

राज्य सरकार के एक बड़े मोहरे और उसके प्यादे पर गिरी कार्रवाई की गाज

अभियान के दूसरे दिन आयकर विभाग की टीम ने सरकार का एक मोहरा और उसके प्यादे (सूर्यकांत तिवारी और निखिल चंद्राकर) को दबोच लिया गया है; जिसके सरकारी गवाह बनने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता।सीआरपीएफ के जवानों से घिरे रहते हैं सूर्यकान्त तिवारी और निखिल चंद्राकर ।

क्या मुख्यमंत्री की उप सचिव सौम्या चौरसिया हो गयी हैं भूमिगत 

सूत्रों के मुताबिक, टैक्स स्वीप के दूसरे दिन 12 करोड़, और 7 करोड़ रुपये के सोने के आभूषणों के अलावा भी करीब एक लाख रुपये की नगदी जब्त की गई, इसके अलावा, कर निवेश करने वाले कुछ व्यक्तियों द्वारा संचालित किए जा रहे एक दर्जन से अधिक बैंक लॉकरों का भी पता लगाया गया है। वहीं मुख्यमंत्री की उपसचिव सौम्या चौरसिया के भूमिगत होने की भी खबर उसके बंगला समेत दो दर्जन स्थानों को सीलबंद किए जाने की खबर से सोशल मीडिया लबरेज़ रहा !

अब तक 17 सौ करोड नगद राशि बरामद होने की खबर

अन्य मीडिया के हवाले से अंदाज लगाया गया है कि, आयकर विभाग की टीम ने अब तक के कार्रवाई में लगभग 1700 करोड़ की नगद राशि सहित वृहद मात्रा में स्वर्णाभूषण, जमीन की लेनदेन से सम्बन्धित अनेक गुप्त दस्तावेज सहित खनन, कोल वासरी और परिवहन व्यवसाय के माध्यम से प्राप्त बेहिसाब नगदी बरामद किए जाने की बात कही गई है।

मुख्यमंत्री की दिल्ली उड़ान, मौसम ने बिगाड़ा खेल !

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल तड़फड़ में केबिनेट की बैठक रद्द करते के बाद मीडिया से मुखातिब हो छापे की कर्रवाई पर एतराज जताते हुए दिल्ली रवाना होने की बात ने भी जोर पकड़ा था और पढ़ने को मिला कि खराब मौसम के चलते उनके विमान को जयपुर में इमरजेसी लैंडिग और वहां के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात की खबर सोशल मीडिया में अपना स्थान कायम कर लिया हैं।

यह थे निशाने में, लग सकता था इनका भी नम्बर

छापे की इस कार्रवाई में महापौर एजाज ढेबर सहित उसके करीबी अफरोज अंजुम के ठिकानों समेत आबकारी ओएसडी अरुण पति त्रिपाठी, सीए कमलेश जैन और बीयर सप्लायर संजय दीवान भी इस कार्रवाई से अछूते नहीं रहे। इसके अलावा छत्तीसगढ़ प्रदेश के सबसे बड़े शासकीय भू–माफिया; पूर्व मुख्य सचिव और “रेरा अध्यक्ष विवेक ढांड एंड गैंग” भी इस दायरे में शामिल थे; जिसका नम्बर कभी भी लग सकता है…


यह भी पढ़ें: कभी मुंबई की सड़कों पर ऑटो चलाते थे सीएम एकनाथ शिंदे, जानें कैसे बदली उनकी तकदीर


यह भी पढ़ें: नक्सलियों और डीआरजी जवानों के बीच मुठभेड़, मारा गया 5 लाख का इनामी नक्सली


 

 

दीपक साहू

संपादक

- Advertisement -

Must Read

- Advertisement -
505FansLike
50FollowersFollow
814SubscribersSubscribe

तालाब को गहरा करने के लिए चल रही थी खुदाई, तभी...

मध्यप्रदेश आगर/स्वराज टुडे: मध्यप्रदेश के आगर मालवा के एक तालाब का गहरीकरण किया जा रहा था. JCB से खुदाई की जा रही थी. खुदाई के...

Related News

- Advertisement -