अप्रेंटिस प्रशिक्षुओं की एसईसीएल के निदेशक कार्मिक के साथ वार्ता विफल, अब आंदोलन और तेज करने का ऐलान

- Advertisement -

छत्तीसगढ़
बिलासपुर/स्वराज टुडे: आज 23 जुलाई 2022 को हुई बैठक में एसईसीएल प्रबंधन की ओर से निदेशक कार्मिक श्री कुमारप्रसाद, महाप्रबंधक कार्मिक / प्रशासन श्री ए के सक्सेना, मनीश श्रीवास्तव वरिष्ठ प्रबंधक कास के अतिरिक्त मानव संसाधन विकास विभाग के कार्यवाहक श्री टी डी गौतम, मुख्य प्रबंधक खनन श्री मिलिंद केदारे एवं श्री महाजन मुख्य प्रबंधक (कार्मिक) उपस्थित थे। आईटीआई प्रशिक्षुओं की ओर से श्री ऋषि पटेल, रानीदुर्गावती, गिरजाशंकर यादव, संजय महोबिया, उपस्थित थे।

वार्ता के दौरान आईटीआई छात्रों ने एक सूत्रीय मांग के तहत एसईसीएल में कराये गये मजदूरी का पैसा दिये जाने की बात कही, जिस पर निर्देशक कार्मिक ने अपने सहयोगियों को जवाब देने के लिए निर्देशित किया लेकिन बैठक में उपस्थित श्री ए के सक्सेना के साथ साथ मानव संसाधन विकास विभाग के किसी भी अधिकारी ने इसका जवाब नहीं दिया।

चूंकि एसईसीएल प्रबंधन द्वारा जानबूझ कर अपने मैनपावार की कमी को आईटीआई प्रशिक्षुओं से पूरा कर उनसे मजदूरी कराया गया है।

निर्देशक कार्मिक ने चर्चा के दौरान आईटीआई छात्रो के समय आउटसोर्सिंग के तहत छात्र छात्राओं को ठेकेदारों के अधिनस्थ काम में लगाने का प्रस्ताव रखा जिसे आईटीआई छात्रों ने अस्वीकार कर दिया और केवल नियमितिकरण और मजदूरी के वेतन की माँग को प्राथमिकता के तौर पर प्रबंधन के समक्ष रखा।

ऋषि पटेल के नेतृत्व में चलाये जा रहे आंदोलन की मुख्य माँग मजदूरी का वेतन है क्योंकि आईटीआई छात्र-छात्राओं को एसईसीएल प्रबंधन के द्वारा प्रशिक्षण देने के बजाए नियमित कर्मचारियो की तरह केवल सीवाने, बल्ती ढोने पास छिलवाने के साथ साथ बारूद दूलवाने और छात्राओं से सुबह 10 बजे से रात 11 बजे तक विभागीय कार्य कराया गया है जो कि अप्रेन्टिस एक्ट 1961 के खिलाफ है इसी नियम विरूद्ध कार्य पर आई टीआई छात्रों ने अपने एक साथी हीरा लाल मूत्तहरे को खोया है जिसकी मृत्यु वरा क्षेत्र में विभागीय कार्य करने के दौरान हुई।

चूंकि आईटीआई छात्रों के सवाल का जवाब निर्देशक कार्मिक एवं उनके सहयोगियों के पास नहीं है इसलिए वे छात्र छात्राओं बॉटने / फूटडालने का कार्य के तहत उल्लेखित प्रस्ताव छात्र-छात्राओं क बीच रखा।

रिषि पटेल ने बताया कि निर्देशक कार्मिक से बैठक वार्ता विफल होने के कारण दिनांक 4 अगस्त 2022 तक एसईसीएल सीएमडी से भेट वार्ता का प्रयास किया जायेगा। इसके बाद भी सफलता प्राप्त नहीं होने पर दिनांक 05. को विशाल धरना प्रदर्शन के साथ अपनी बात / माँग सीएमडी के समक्ष रखा जाएगा। उन्होंने सभी छात्र छात्राओं से अनिवार्य रूप से प्रदर्शन में शामिल होने की अपील की है ।

 

दीपक साहू

संपादक

- Advertisement -

Must Read

- Advertisement -
505FansLike
50FollowersFollow
814SubscribersSubscribe

तालाब को गहरा करने के लिए चल रही थी खुदाई, तभी...

मध्यप्रदेश आगर/स्वराज टुडे: मध्यप्रदेश के आगर मालवा के एक तालाब का गहरीकरण किया जा रहा था. JCB से खुदाई की जा रही थी. खुदाई के...

Related News

- Advertisement -